Jaisalmer News:Queen Harish Death In Road Accident- जैसलमेर के प्रसिद्ध लोक नर्तक हरीश सुथार (Queen Harish) की रविवार सुबह सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गयी। हरीश समेत चार अन्य लोगो की मौत हो गयी जबकि हादसे में छह अन्य घायल हो गए।

क्वीन हरीश की मौत से सदमे में जैसलमेर

Queen Harish Jaisalmer
जैसलमेर के गडीसर पर क्वीन हरीश

जैसलमेर में हादसे की सूचना मिलते ही शोक की लहर छा गयी। लोगो को क्वीन हरीश की मौत का बहुत सदमा लगा है। गौरतलब है कि क्वीन हरीश के नृत्य की विदेशो तक धाक थी। विदेशो से कई लोग हरीश से नृत्य सीखने आते थे तो कई बार हरीश ने विदेशों में शो आयोजित किये थे।

क्वीन हरीश बच्चों को गर्मियों की छुट्टियों में निःशुल्क डांस सिखाते थे और पर्यटकों के लिये भी डांस और योगा क्लास लगाते थे। बताया जाता है कि करीब 2000 लोग उनके शिष्य थे। हरीश ने प्रकाश झा की फ़िल्म जय गंगाजल में एक आइटम सांग “नजर तोरी राजा” भी किया था।

नेशनल हाइवे 112 के कापरड़ा गांव में क्वीन हरीश के साथ तीन लोक कलाकारों की मौत

queen harish death in road accindet
क्वीन हरीश की टवेरा कार दुर्घटना स्थल पर
जोधपुर जिले की बिलाड़ा तहसील के गांव कापरड़ा के पास ये हादसा हुवा। ट्रक और टवेरा कार की इस टक्कर से क्वीन हरीश के साथ ही लतीफ खान, रविन्द्र गोस्वामी व भीखे खान की भी मौत हो गयी।
रविवार सुबह कापरड़ा के पास नेशनल हाइवे 112 पर सुबह करीब 5:45 बजे ये हादसा हुवा। तेज रफ्तार कार और ट्रक की सीधी टक्कर हुई जिससे कार में सवार लोग बुरी तरह फंस गए।
स्थानीय लोगो ने दुर्घटना के बाद पुलिस को सूचना देकर बचाव कार्य शुरू किया। हरीश समेत चार लोगों के शव निकाले गए और अन्य घायलों को बिलाड़ा के ट्रोमा सेंटर रेफर किया गया। जंहा से गंभीर घायलों को जोधपुर के एमडीएम में भेजा गया है।

जयपुर में लोक कलाकारों के साथ प्रस्तुति देने जा रहे क्वीन हरीश की रास्ते मे मौत

डांसर क्वीन के नाम से मशहूर हरीश अपनी टीम के 10 लोगो के साथ जयपुर किसी कार्यक्रम में हिस्सा लेने जा रहे थे। हरीश और तीन अन्य लोक कलाकारों की मौत पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है। सीएम के अलावा कर्नल सोनाराम चौधरी,विधायक रूपाराम धनदेव,जिला प्रमुख अंजना मेघवाल, जिला कलेक्टर नमित मेहता ने डांसर हरीश की असमायिक मृत्यु पर शोक जताया है।

जैसलमेर पर्यटन उद्योग में शोक की लहर

हरीश समेत चार लोक कलाकारों की मृत्यु से जैसलमेर के अन्य लोक कलाकारों काफी दुखद आघात पहूंचा है। सोशल मीडिया पर जैसलमेर का आमजन इन्हें श्रद्धांजलि दे रहा है। सोमवार को जैसलमेर में इन लोक कलाकारों का अंतिम संस्कार होगा।

हरीश सुथार से क्वीन हरीश बनने की कहानी

queen harish garba dance
सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रस्तुति देते क्वीन हरीश

जैसलमेर में जन्मे क्वीन हरीश का असली नाम हरीश कुमार सुथार था। हरीश के जन्म के समय उनका परिवार आर्थिक तौर पर बेहद कमजोर था। इस वजह से उन्हें स्कूल की पढ़ाई भी बीच में छोड़नी पड़ी। स्कूल के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में रुचि रखने वाले हरीश ने पढ़ाई तो छोड़ी लेकिन नृत्य की विधा सीखने की ललक नहीं छोड़ी। काफी समय तक उन्होंने पोस्ट ऑफिस में डाक बांटने का काम किया और इस बीच डांस की प्रेक्सिस भी करते और जल्द ही उन्होंने इस क्षेत्र में पहचान बनाना शुरू कर दिया

38 की उम्र में 56 से अधिक देशों में क्वीन हरीश की प्रस्तुतियां

हरीश कुमार से क्वीन हरीश बने इस कलाकार की उम्र महज 38 साल थी। लेकिन अपनी प्रतिभा के दम पर स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय ख्यातनाम समारोहो में वे परफॉर्म कर चुके थे। महज 38 वर्ष की उम्र में क्वीन हरीश अपनी इस प्रतिभा के दमपर 56 देशों में प्रस्तुतियां दे चुके थे।