ashok-gehlot-ki-ghoshna-do-laakh-ka-karz-maaf-rajasthan-ki-kisano-ka.jpg
           

जयपुर : मध्यप्रदेश में कमलनाथ द्वारा किसानों का दो लाख का कर्ज माफ़ करने की घोषणा के बाद आज अशोक गहलोत ने भी राजस्थान के किसानों का दो लाख तक का कर्जा माफ़ करने की घोषणा की हैं.

कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा किसानो के कर्ज माफ़ी की घोषणा के बाद कांग्रेस को तीन राज्यों में अच्छे वोट मिले और सरकार भी बनी, जिसके बाद बीजेपी कांग्रेस पर घोषणा के अनुरूप 10 दिन में कर्ज माफ़ करने का दबाव बना रही थी .

बुधवार शाम को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने टीवी चैनल्स पर किसानो के दो लाख तक के कर्ज माफ़ करने की घोषणा की, हालांकि अभी तक उच्चाधिकारियों के साथ कर्ज माफ़ी की शर्तों को लेकर मंथन जारी हैं.

बीजेपी समर्थक कह रहे हैं कि कांग्रेस द्वारा की जा रही कर्ज माफ़ी की घोषणा वास्तविक ना होकर छलावा मात्र साबित होगी .इसमें कांग्रेस सरकार इस तरह की शर्ते लागू कर देगी जिससे किसानो को फायदा नहीं मिल पायेगा .

First India News की खबर के अनुसार अभी लघुकालीन ऋण और दो हैक्टर तक जमीन की सीमा वाले किसानो को कर्ज माफ़ी दी जायेगी. अशोक गहलोत ने कहा-‘अभी मैंने तमाम अधिकारियों से बातचीत की हैं, वित्त व को-ऑपरेटिव अधिकारियों के साथ बातचीत की है, राहुल गांधी जी ने वादा किया था, सरकार बनी तो 10 दिन में ऋण माफ करने का था वादा’.

उन्होंने कहा ‘पिछली सरकार ने जो वादा खिलाफी की है, सिर्फ 2 हजार करोड़ पैसा दिया है उन्होंने, 8000 करोड़ का भार आने वाला था, ऐसे में 6000 करोड़ का भार हमारे ऊपर आया है’.हमने फैसला किया है, हम समस्त ऋण माफ करेंगे, नेशनल,ग्रामीण,अन्य बैंक उनमें जो किसानों का ऋण है, जिसकी वजह से किसान आत्महत्या कर रहे हैं, पात्र किसानों को और जो डिफाल्टर हैं, उनके लिए दो लाख तक का कर्जा माफ, कमर्शियल बैंकों का भी होगा कर्ज माफ’.

Zee Rajasthan की खबर के अनुसार इससे राजस्थान सरकार पर 18 हजार करोड़ रुपए का पड़ेगा वित्तीय भार, 30 नवंबर 2018 तक के डिफाल्टर किसानों को लाभ होगा .

ये भी पढ़ें :