जीका वायरस राजस्थान
फोटो -गूगल से साभार
           

जयपुर न्यूज़ / जयपुर शहर में फैलते जीका वायरस से बचाव के लिए प्रशासन अब मस्जिदों का सहारा लेगा। जयपुर के शास्त्रीनगर इलाके में अब तक जीका वायरस के 42 रोगी सामने आ चुके है।

जीका वायरस अब राजस्थान सरकार के स्वास्थ्य महकमे के लिए औऱ जनता के लिये जी का जंजाल बन गया है।

जयपुर में जीका के 42 पॉजिटिव केस सामने आने के बाद अब राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव ने जीका वायरस के सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र शास्त्री नगर के लिए खास दिशा निर्देश जारी किये है।

शास्त्री नगर मुस्लिम बाहुल इलाके मे इस तरह के मामले ज्यादा सामने आये है लिहाजा अब मस्जिदों मे जीका वायरस से बचने के लिये और जागरुक करने के लिये  मस्जिदों में नमाज के वक्त ऐलान कराया जा रहा है.

जीका वायरस के बढ़ते खौफ के बीच लोगो द्वारा वायरस से बचने के लिए दूआ भी की जा रही है वंही कुछ लोग मौलवियों से ताबीज भी बनवा रहे हैं।

डेंगू और चिकनगुनिया फैलाने वाले मच्छरों से ही जीका भी फैलता है,सबसे पहले शास्त्रीनगर की एक वृद्ध महिला में जीका वायरस के लक्षण दिखाई दिए थे।

जानकारी मिली है कि जयपुर के कई इलाकों में कई सालों से फोगिंग नहीं हुई है,जिसके कारण मच्छर बढ़ गए है।

शहर की तंग गलियों में हालात ज्यादा खराब है,वँहा कर्मचारियों को पैदल जाकर घरों में स्प्रे करना पड़ता है इसलिए वो टाल जाते है।

जीका वायरस राजधानी जयपुर में आने वाले लोगो के साथ ही देश के अन्य हिस्सों में भी फैल रहा है। बिहार और दिल्ली में भी जीका वायरस के मामले सामने आए है।

पढ़ें:-राजस्थान में जीका वायरस का पहला मामला

ये भी पढ़ें :