Dr. Kiran Kang IPS With IAS Namit Mehta

सतर्कता समिति में दर्ज प्रकरणों का प्राथमिकता से निस्तारण कर परिवादियो को पहुंचाएं राहत-जिला कलक्टर

जैसलमेर, 10 जनवरी। जिला कलक्टर नमित मेहता ने अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे जिला जन अभियोग निराकरण एवं सतर्कता समिति में दर्ज प्रकरणों का प्राथमिकता से निस्तारण कर परिवादियों को समय पर राहत पहुंचावें ताकि इस उच्च स्तरीय फोर्म के प्रति लोगों का विष्वास बढ़े।


जिला पुलिस अधीक्षक डॉ. किरण कैंग सिन्धु ने भी पुलिस से संबंधित परिवादों को सुना एवं संबंधित लोगों को आवष्यक कार्यवाही कराने का विष्वास दिलाया।

मेहता ने अधिकारियों को यह भी निर्देष दिए कि वे समिति में दर्ज प्रकरणों को सदैव गंभीरता से लें एवं परिवादी को बुलाकर उसके मामले में क्या राहत मिल सकती है उसके बारे में भी अवगत करावें एवं साथ ही उनके स्तर से जिन समस्या का निस्तारण हो सकें उनका निदान करें ताकि लोगों को जिला स्तर की सतर्कता समिति मे कम से कम प्रकरणां के लिए आना पडें।

बैठक में समिति स्तर पर दर्ज 09 प्रकरणों पर विस्तार से समीक्षा की गई एवं संबंधित विभागों द्वारा आवष्यक कार्यवाही करने के बाद समिति स्तर से 4 प्रकरणों का निस्तारण कर दिया गया।

बैठक में नव नियुक्त जिला पुलिस अधीक्षक डॉ.किरण कैंग सिन्धु, अतिरिक्त जिला कलक्टर वीरेन्द्र कुमार वर्मा, मुख्य कार्यकारी अधिकारी रामेष्वरलाल मीणा, अतिरिक्त आयुक्त उपनिवेषन प्रहलाद मीणा, उपायुक्त उपनिवेषन मोहनदान रतनू, उपखण्ड अधिकारी जैसलमेर विकास राजपुरोहित, फतेहगढ सुमन सोनल, आयुक्त नगरपरिषद पवन कुमार के साथ ही अन्य जिला अधिकारी उपस्थित थे।

बैठक में जिला कलक्टर ने अधिकारियों को निर्देष दिए कि सतर्कता समिति में दर्ज प्रकरणों के मामले में जिन विभागों को जो समय सीमा दी गई है उस समय सीमा में प्रकरण निस्तारण गंभीरता से करें। उन्होंने साथ ही यह भी हिदायत दी कि प्रकरण में की गई कार्यवाही से परिवादी को भी अवगत करायें। उन्होंने बैठक में प्रकरणों से संबंधित परिवादियां को बुलाया एवं अधिकारियां द्वारा उनके प्रकरण में क्या कार्यवाही की गई है उससे भी अवगत कराया।

जिला कलक्टर ने आयुक्त नगरपरिषद को निर्देष दिए कि वे कच्ची बस्ती के मामलों में अपने स्तर से प्रकरण हल कराने की कार्यवाही करें।

बैठक में परिवादी संतोष एवं परिवादी चनेषरखां निवासी जांवध जूनी का मामला न्यायालय में विचाराधीन होने के कारण समिति स्तर से निस्तारित कर दिया गया। वहीं परिवादी बचलखां निवासी फतेहसर के मामले में अधीक्षण अभियंता विद्युत ने बताया कि परिवादी स्वंय ने बताया कि उसके नाम से गलत षिकायत की गई है इसलिए यह प्रकरण भी समिति स्तर से निस्तारित कर दिया गया। वहीं परिवादी जगमालाराम के मामले में विकास अधिकारी जैसलमेर समिति ने बताया कि उसका नाम प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत दर्ज कर दिया गया है, इसलिए यह प्रकरण भी समिति स्तर से निस्तारित कर दिया गया।

बैठक में परिवादी मोचारे खां के लक्ष्मणों की बस्ती में सरकारी भूमि पर किए गए अवैध निर्माण को हटाने के मामले में जिला कलक्टर ने तहसीलदार जैसलमेर को निर्देष दिए कि वे विद्युत विभाग को आवंटित भूमि के कागजात आज ही उपलब्ध करवा दें। साथ ही इस मामले में अधीक्षण अभियंता को निर्देष दिए कि वे 5 दिवस में इस मामले की प्रभावी जांच करके आवष्यक कार्यवाही करें।

परिवादी रावताराम निवासी राजगढ द्वारा गोचर एवं औरण भूमि पर अवैध काष्त एवं अतिक्रमण के मामले में जिला कलक्टर ने तहसीलदार भणियाणा को निर्देष दिए कि वे इस प्रकरण में जो आदेष उनके द्वारा जारी किए है उसकी पत्रावली तहसीलदार पोकरण को उपलब्ध करवा दें। साथ ही तहसीलदार पोकरण को निर्देष दिए कि वे एक सप्ताह में इस अतिक्रमण को हटाने की कार्यवाही करवा दें।

बैठक में परिवादी रोजेखां द्वारा महानरेगा में फर्जीवाडे की षिकायत के मामले में जिला कलक्टर ने मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद को निर्देष दिए कि वे सैम्पल रूप से 2 कार्यो की जांच पीडब्ल्यूडी से करवा दें।

इसी प्रकार परिवादी सलीम खां निवासी हसन का गांव के मस्टररोल जारी नहीं करने के मामले में भी उनको निर्देष दिए कि वे इसकी जांच कर मस्टररोल को शीघ्र ही जारी करवा दें। परिवादी सरपंच ग्राम पंचायत बोडाना के डीलर की मनमानी के मामले में जिला कलक्टर ने रसद विभाग के निरीक्षक को निर्देष दिए कि वे इसकी जांच कर एक सप्ताह में रिपोर्ट पेष करें।

अतिरिक्त जिला कलक्टर वीरेन्द्र कुमार वर्मा ने बैठक में एक-एक प्रकरण को विस्तार से रखा वहीं विभागों द्वारा की गई कार्यवाही से अवगत कराया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे प्रकरणां के मामले में पालना प्रगति प्रतिवेदन समय पर प्रस्तुत करें।