the Rajasthan assembly elections 2018

पोकरण.जैसलमेर। जैसलमेर जिले की पोकरण विधानसभा सीट सबसे हॉट सीट बन गयी है। बीजेपी और संघ ने मिलकर कांग्रेस प्रत्याशी शाले मोहम्मद को हराने के लिए जो मास्टर प्लान बनाया है वो बहुत ही जबरदस्त है।

जँहा बीजेपी और संघ मास्टर प्लान का काम पूरा कर 7 दिसंबर मतदान दिवस की प्रतीक्षा कर रहे है वंही कांग्रेस अभी तक गांवो में रैलियां करने में ही उलझी हुई है।

कार्यकर्ताओं की कमी से जूझ रही कांग्रेस के लिए ये मास्टर प्लान बहुत नुकसान देह साबित होगा। इस मास्टर प्लान के बारे में जानने से पहले आप ये समझ लीजिए कि कांग्रेस कंहा कमजोर पड़ रही है।

जँहा कांग्रेस पोकरण में मुस्लिम मेघवाल गठबंधन के सहारे अपनी नैया पार लगने में आश्वस्त थी,उसे उम्मीद थी कि भीम सेना के कार्यकर्ता कांग्रेस का भी काम करेंगे मगर भीम सैनिक रैलियां करने, सोशल मीडिया पर लड़ाइयां करने और दारू पीने में ही मस्त है।

भीम सैनिकों द्वारा किये जा रहे हिन्दू देवी देवताओं पर गन्दे कमेंट कांग्रेस के हिन्दू वोट बैंक को तोड़ रहे है वंही मुस्लिमों द्वारा मस्जिदों में जाकर कांग्रेस को वोट देने की कसमें खाने से हिन्दू वोटर्स भी एक होने शुरू हो गए है।

शाले मोहम्मद के लिए सबसे बड़ी समस्या है हिन्दू वोटों के ध्रुवीकरण को रोकना,ईमानदार कार्यकर्ताओं की कमी तथा अपने पिता गाज़ी फ़क़ीर की पाकिस्तान से रिश्तों की छवि जिसको बीजेपी समर्थक भुना रहे है।

ये है बीजेपी और संघ का मास्टर प्लान :- सूत्रों से मिली जानकारी के आधार पर बीजेपी और संघ ने अलग अलग रणनीति बनाई है। बीजेपी के कार्यकर्ता परंपरागत शैली से चुनाव प्रचार करेंगे,लोगो को बीजेपी के शासन काल की योजनाओं के बारे में बताएंगे और मतदान केंद्रों पर एजेंट का काम करेंगे।

संघ ने कांग्रेस के प्रभावशाली हिन्दू पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को इस बात के लिए राजी कर लिया है कि वो पार्टी के प्रति प्रतिबद्ध है तो खुद का वोट दे सकते है पर अन्य किसी मतदाता को कांग्रेस को वोट देने के लिए प्रेरित नहीं करेंगे।

वंही संघ ने विशेष व्यूह रचना के तहत पोकरण विधानसभा में 10 हजार स्वयंसेवकों को पिछले एक महीने से काम पे लगा रखा है जो अंदर खाते काम कर रहे है। इनका काम इतने गोपनीय तरीके से चल रहा है कि किसी को कानोंकान ख़बर भी नहीं हो रही है।

संघ ने प्रत्येक ग्राम स्तर पर चुनाव के दौरान खण्ड प्रमुख,गट प्रमुख और बूथ प्रमुख नियुक्त कर दिए है। 10 हजार में से 3 हजार कार्यकर्ता निगरानी और जासूसी कर रहे है वंही 7 हजार संघ के कार्यकर्ता घरों से हिन्दू वोटों को निकालकर मतदान केंद्र तक पहुंचाएंगे। इस तरह से संघ ने वोटर्स को मतदान केंद्र तक लाने का जिम्मा संभालकर बीजेपी को बड़ी राहत प्रदान की है।

प्रत्येक संघ कार्यकर्ता को 30 वोटों को मतदान केंद्र तक पहुंचाने की जिम्मेदारी दी गयी है। इस तरह संघ ने पोकरण विधानसभा क्षेत्र के करीब दो लाख मतदाताओं तक अपनी पहुंच बना ली है।

जिसमें कांग्रेस को वोट देने वाले और बीजेपी को वोट देने वाले संभावितों का चिन्हीकरण तथा जातिगत आधार पर गणना का कार्य भी पूरा कर लिया गया है।

सूत्रों की माने तो संघ और बीजेपी दोनों इस बात को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है कि पोकरण से बीजेपी प्रत्याशी प्रतापपुरी महाराज की जीत बड़े अंतर से होगी।

मुस्लिम मेघवाल गठबंधन के बावजूद मेघवाल समाज से 30 से 35 प्रतिशत वोट तथा मुस्लिम समाज से 10 प्रतिशत वोट बीजेपी को मिलेंगे।