जैसलमेर में नव वर्ष की धूम मची तथा सैलानियों की बम्पर आवक ने जैसलमेर की होटलों व रिसॉर्ट्स में आनंद लिया। हजारों की तादाद में नया साल मनाने जैसलमेर आए सैलानियों के साथ स्थानीय बाशिंदों ने इस घड़ी का पूरा लुत्फ उठाया और उनमें जोश ठाठे मारने लगा।

पूरा आसमान आतिशी नजारों से नहा गया। होटलों और रिसोर्ट्स में लगाए गए डांस फ्लोर्स पर नृत्यांगनाओं के साथ सैलानियों ने भी जमकर ठुमके लगाए। रात 12 बजे के मौके पर छोटी-बड़ी होटलों से लेकर सम-खुहड़ी के रिसोर्ट्स में एक से बढक़र एक डिजाइन वाले केक काटे गए और आतिशबाजी की गई। आकाश में रह-रहकर रोशनियां उठ-गिर रही थी और पूरा आलम जगमगाता दिखाई दिया।

स्वर्णनगरी के सितारा होटलों तथा अन्य जगहों पर रात 8 बजे से ही नाच-गानों की महफिलें सज गई। लोक कलाकारों ने चकरी, घूमर, कालबेलिया और भवई नृत्यों से अपनी कला का लोहा मनवाया। बाहर से आए सैलानी भी उनके साथ खूब थिरके। बाहरी कलाकारों ने जब फिल्मी गीतों और पश्चिमी धुनों पर नृत्य का जलवा बिखेरा तो वहां मौजूद हर व्यक्ति मस्ती में डूब गया। इस दौरान कदम खुद ब खुद थिरकने लगे।

सितारा होटलों में नववर्ष के जश्र को जायकेदार बनाने के लिए तरह-तरह की डिशेज मेहमानों को परोसी गई। इसी तरह से राजस्थानी संस्कृति की खुशबू वाले बाजरी के सोगरे और कैर-सांगरी की सब्जी के साथ भारत के विविध हिस्सों की डिशेज तैयार की। सैलानियों को इटालियन, मंचूरियन, कांटिनेटल, फ्रेंच आदि विदेशी व्यंजन भी पेश किए गए।