dwarke ki pathiyal jaisalmer

Jaisalmer News/ स्वर्ण नगरी जैसलमेर के गडीसर तालाब पर पर्यटन के लिए देश विदेश के हजारों पर्यटक आते रहते हैं,मगर यंहा के पर्यटक स्थलों पर गंदगी का जमावड़ा होने से देश और विदेश में जैसलमेर की छवि धूमिल हो रही हैं.

जैसलमेर के सामाजिक कार्यकर्ता व स्वतंत्र रूप से पत्रकारिता करने वाले आनंद एम वासु ने बताया कि गड़ीसर पर टीलों की प्रोल के अंदर घुसते ही दाहिनी तरफ एक पठियाल है जिसे ‘द्वारके की पठियाल’ से जाना जाता है,इसका उपयोग ब्राह्मण समाज के लोग किया करते थे.आज लोग इसे पब्लिक टॉयलेट के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं.

आनंद वासु का कहना हैं कि यह गंदगी आज की नहीं,कई वर्षों से है लेकिन न तो इस ओर नगरपरिषद ने ध्यान दिया और न ही गड़ीसर पर वर्षों से सफाई अभियान में संलग्न एक टीम ‘आई लव जैसलमेर’ के सदस्यों ने कभी गौर फरमाया . places to visit in jaisalmer

जबकि इस पठियाल पर देशी और विदेशी पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है. यहां तक कई हैरीटेज टूरिस्ट ग्रुप्स को यहां पर गाईड द्वारा लाया जाता है और इसे ऐतिहासिक धरोहर बताया जाता है.इस नारकीय स्थिति से रूबरू कराते कोई नहीं कतराते.

आनंद वासु ने सुझाव दिया हैं कि टीलों की प्रोल की दाहिनी ओर जिस पठियाल को पब्लिक टॉयलेट के रूप में यूज कर रहे हैं वहां पर एक बार अच्छी सफाई करवा कर, सीसीटीवी कैमरे लगा दिए जाए तो पता चल सकता है कि आखिर इस पर्यटन स्थल को गंदा कौन कर रहा है . भविष्य में तीसरी नजर के भय से यहां गंदगी करने की कोई हिम्मत नहीं करेगा .