nasha mukti abhiyan

जयपुर, एक फरवरी। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं शहादत दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आव्हान पर प्रदेश को नशा मुक्त राजस्थान बनाने की मुहिम में प्रदेशभर में एक लाख 56 हजार 376 संस्थानों में 1 करोड़ 13 लाख 98 हजार 285 लोगों ने बुधवार को प्रातः 11 बजकर 2 मिनट पर एक साथ, एक ही समय पर नशा मुक्ति की शपथ ली।

मुख्यमंत्री के आव्हान एवं मुख्य सचिव के निर्देशों पर सभी स्कूलों, कॉलेजों, छात्रावासों, आंगनवाड़ी केंद्रों, अस्पतालों, राजकीय कार्यालयों, पुलिस थानों व पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों सहित कुल 38 विभागों की एक साथ नशा मुक्ति शपथ अभियान में सक्रिय सहभागिता रही।


चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने 30 जनवरी को जोधपुर के डॉ.एस.एन. मेडिकल कॉलेज सभागार में राज्य स्तरीय ‘नशा मुक्ति’ अभियान का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने इस समारोह में एनिमिया मुक्त राजस्थान अभियान, ‘स्पर्श’ कुष्ठ जागरूकता सर्वे अभियान का रिमोट बटन दबाकर शुभारंभ भी किया।


सभी जिलों में जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित कर अभियान का शुभारम्भ किया गया, जिसमें स्थानीय जनप्रतिनिधि, जिला कलक्टर एवं संबधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे।

विशिष्ट शासन सचिव एवं मिशन निदेशक, एनएचएम डॉ. समित शर्मा ने बताया कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की स्मृति में प्रातः 11 बजे का 2 मिनट का मौन के बाद नशा मुक्ति अभियान के तहत ‘‘जीवन के लिए प्रतिज्ञा‘‘ की संकल्प-शपथ ली गई।

नशा मुक्ति अभियान के तहत चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के 17,854 चिकित्सा संस्थानों व कार्यालयों में 6,58,854 प्रतिभागियों द्वारा शपथ ली गयी। इसी प्रकार शिक्षा विभाग के 73,779 स्कूलों एवं कॉलेजों में 92,66,348 प्रतिभागियों, महिला एवं बाल विकास विभाग के 55184 आंगनवाड़ी केन्द्रों व कार्यालयों में 10,51,401, पुलिस विभाग के 1122 पुलिस थानों व प्रशिक्षण संस्थानों में 49,871 पुलिसकर्मियों ने, सामाजिक न्याय-अधिकारिता में 271 संस्थानों में 13,739 कर्मचारियों एवं अन्य विभागों में 3,58,072 लोगों ने शपथ ली।


मिशन निदेशक ने बताया कि समस्त जिलों में तम्बाकू मुक्ति उपचार एवं परामर्श की सेवायें सुदृढ़ कर तम्बाकू उपभोग करने वालों को यथासंभव सहयोग कर उपचारित किया जायेगा। एसएनओ एनटीसीपी डा. एस.एन. धौलपुरिया ने बताया कि किसी भी रूप में तम्बाकू का सेवन हानिकारक ही है।