लघु सीमान्त किसान -प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना-कृषक सेवा पोर्टल शुल्क

Jaipur News। केन्द्र सरकार द्वारा लघु एवं सीमान्त कृषकों के लिये प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की घोषणा की गई है। इसके तहत राजस्थान के किसी भी जिले के पात्र कृषक अपने नजदीकी ई-मित्र पर मात्र 25 रूपये शुल्क में लघु सीमान्त कृषक सेवा पोर्टल पर ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन करा सकते है।

जयपुर के जिला कलक्टर जगरूप सिंह यादव ने यह जानकारी देते हुये बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में ऎसे लघु एवं सीमान्त कृषक पात्र माने गये है, जिनके पास 2 हैक्टेयर या इससे कम कृषि भूमि हो। योजना में ऎसे परिवार शामिल होगें, जिनमें पति-पत्नि और 18 वर्ष की आयु तक के नाबालिग बच्चे हो और ये सभी सामूहिक रूप से 2 हैक्टेयर कृषि भूमि पर खेती करते हो। उन्होंने बताया कि जिन कृषकों का नाम 1 फरवरी 2019 तक लैण्ड रिकार्ड में होगा, वे इस योजना में लाभ लेने के हकदार होंगे।

जिला कलक्टर ने बताया कि जिले के पात्र कृषकों के बैंक खाते में प्रत्यक्ष लाभ अन्तरण (डीबीटी) के जरिये 2 हजार रूपये की राशि 31 मार्च 2019 तक जमा की जाएगी। इस योजना का लाभ लेने के लिये कृषकों को अपने नजदीकी ई-मित्र पर जाकर जमीन मालिक का नाम, आधार नम्बर, बैंक खाता संख्या व मोबाइल नम्बर आदि की जानकारी सहित दस्तावेज प्रस्तुत कर ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन कराना होगा। 

यादव ने बताया कि जिले के सभी उपखण्ड अधिकारियों एवं तहसीलदारों को पटवारियों के माध्यम से पात्र कृषकों का रजिस्ट्रेशन अपनी देखरेख में ई-मित्र पर कराने के लिये निर्देशित किया गया है।

लघु सीमान्त कृषक सेवा पोर्टल पर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए शर्तें:-

  • प्रत्येक पात्र किसानों को प्रतिवर्ष तीन किश्तों में कुल छह हजार रुपए की नकद सहायता उनके खातों में सीधे ही उपलब्ध करवाई जाएगी। 
  • राजस्थान मेप्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन के लिए राज्य सरकार ने लघु व सीमांत कृषक सेवा पोर्टल तैयार किया है। 
  • इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के लिए कृषक को अपनी जमाबंदी, आधार कार्ड एवम बैंक खाता पासबुक ले कर निकटवर्ती ई मित्र केंद्र पर रजिस्ट्रेशन करवाना है। 
  • ई मित्र केंद्र द्वारा ऑनलाइन आवेदन पत्र पूर्ण करने व आधार आधारित अभिप्रमाणन एवम प्रिंट आउट देने के लिए 25/- रुपए शुल्क निर्धारित किया गया है, जिसका कृषक स्वयं भुगतान करेगा। 
  • कृषक के द्वारा पोर्टल के माध्यम से किया गया आवेदन ऑनलाइन ही संबंधित पटवारी के पास तत्काल पहुंच जाएगा।
  • पटवारी अपने भू-अभिलेखों से मिलान कर प्रमाणित करेगा, जिसकी सूचना संबंधित आवेदनकर्ता को उसके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर दी जाएगी।
  • पोर्टल के माध्यम से किसान को प्रत्येक स्तर पर उसके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एसएमएस के माध्यम से सूचित किया जाएगा।
  • योजना के क्रियान्वयन जिला स्तर पर कलेक्टर की अध्यक्षता में कमेटी बनाई गई है, जिसमें बैंक प्रबंध निदेशक सदस्य सचिव हैं। 
  • लघु व सीमांत कृषक पोर्टल पर कृषकों का रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुका है। 24 फरवरी को योजना की विधिवत शुरुआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा की जाएगी। 
  • कृषकों के बैंक खाते में प्रत्यक्ष लाभ अन्तरण (डीबीटी) के जरिये 2 हजार रूपये की राशि 31 मार्च 2019 तक जमा की जाएगी।