Bhilwara News – सुरेश चंद्र (शब्द) | जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ राजस्थान (JAR) की जिला शाखा भीलवाड़ा का जिला पत्रकार सम्मेलन शुक्रवार को श्री नवग्रह आश्रम में समारोह पूर्वक आयोजित किया गया।

जार के प्रदेश अध्यक्ष हरिवल्लभ मेघवाल की अध्यक्षता में आयोजित इस सम्मेलन में अतिथियों के रूप में मांडल विधायक रामलाल जाट, सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी राम सिंह मीणा, प्रेस क्लब भीलवाड़ा के अध्यक्ष सुखपाल जाट, नवग्रह आश्रम के संस्थापक हंसराज चौधरी, एनयूजेआई राष्ट्रीय कार्यसमिति के सदस्य वरिष्ठ पत्रकार रिछपाल पारीक मौजूद रहे।

सम्मेलन की शुरुआत में जिला अध्यक्ष मनीष शर्मा ने सभी का स्वागत करते हुए भीलवाड़ा जिले में जार की गतिविधियों का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया भीलवाड़ा के पत्रकार नवीन जोशी ने जार के जिला अध्यक्ष पद पर मनीष शर्मा को दोबारा अध्यक्ष बनाए जाने का प्रस्ताव रखा गया।

भीलवाड़ा प्रेस क्लब के अध्यक्ष सुखपाल जाट ने इसका समर्थन किया इस पर मंच पर विराजित अतिथियों व सम्मेलन में मौजूद पत्रकारों द्वारा सहमति जताने पर प्रदेश अध्यक्ष मेघवाल ने सर्वसम्मति से मनीष शर्मा को जिला अध्यक्ष पद पर मनोनीत करने की घोषणा की तथा सभी अतिथियों ने मनीष शर्मा का माल्यार्पण व साफा बंधवा कर अभिनंदन किया।

इससे पूर्व वैचारिक सत्र में पत्रकार सुखपाल जाट, नवीन जोशी, नरेश पारीक, मंजूर शेख, सुरेश श्रोत्रिय, मुरली मनोहर सेन, सोमदत्त शर्मा, दिलीप मेहता, गणेश सुगंधी, पुष्प कांत जोशी सहित अन्य पत्रकारों ने जिले में पत्रकारिता का कार्य करने के दौरान आने वाली समस्याओं व सरकार द्वारा प्रदत सुविधाओं के संबंध में अपनी बात रखी।

जार के प्रदेश सचिव मूलचंद पेशवानी ने पत्रकारों से सकारात्मक पत्रकारिता करते हुए शासन व प्रशासन के मध्य सेतु बन कर काम करने और समाज में सामाजिक सरोकारों से जुड़ी खबरों को प्राथमिकता देने का आह्वान किया।

इस दौरान सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी राम सिंह मीणा ने कहा कि मीडिया आज लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है पत्रकारों की जायज मांगों के संबंध में सरकार की ओर से हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

भीलवाड़ा के संबंध में उनको कोई भी मांग पत्र मिला तो वह इस संबंध में सरकार तक उनकी बात को पहुंचाएंगे।

एन यू जे आई राष्ट्रीय कार्यसमिति के सदस्य रिछपाल पारीक ने कहा कि पत्रकारों की संभाग वाइज समस्याओं को राजधानी जयपुर में बैठक आयोजित कर उठाने पर सीधे सरकार तक मांगे पहुंचाई जा सकती है, जार इस संबंध में कार्यवाही करने जा रहा है।

उन्होंने पत्रकारों की वर्तमान दशा व दिशा पर विस्तार से विवेचन करते हुए कहा कि आज कारपोरेट के इस युग में पत्रकार बंधुआ मजदूर बनकर रह गया है।

उन्होंने कहा कि इस व्यवस्था से बाहर निकलना होगा मांडल के विधायक रामलाल जाट ने जार संगठन की गतिविधियों को प्रशंसनीय बताते हुए नवग्रह आश्रम द्वारा आयुर्वेद पद्धति से रोगों का किया किए जा रहे उपचार पर भी प्रसन्नता जताई।

उन्होंने कहा कि आश्रम के माध्यम से आज जिला भीलवाड़ा दुनिया के नक्शे पर पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि कैंसर बीमारी की जड़ निश्चित रूप से प्रोसेस हाउसों व कल कारखानों से निकलने वाला काला पानी है इस समस्या के समाधान के लिए पूर्ववर्ती राज्य सरकार के कार्यकाल में भी उनके द्वारा माकूल बंदोबस्त किए गए थे और अभी वह अपने इस मुद्दे को लेकर कायम है।

काले पानी की समस्या से निजात दिलाने के लिए वह राज्य सरकार के स्तर पर हर संभव कार्यवाही करवाएंगे।

उन्होंने सहकारिता व डेयरी के माध्यम से आम लोगों के हितों के लिए भीलवाड़ा डेयरी द्वारा किए जा रहे कार्यों को भी गिनाया उन्होंने कहा कि कोई भी पत्रकार साथी सहकारिता के माध्यम से डेयरी से जुड़कर ना केवल स्वावलंबी बन सकता है वरन परिवार के आर्थिक उनके लिए भी अग्रसर हो सकता है।

जार के प्रदेश अध्यक्ष हरीवल्लभ मेघवाल ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि जार संगठन राजस्थान में सभी पत्रकारों को विश्वास में लेकर लोकतांत्रिक मूल्यों की रक्षा कार्य संचालन में निष्पक्षता ईमानदारी और पारदर्शिता बनाए रखने का कार्य कर रहा है।

इसीलिए आज प्रदेश में यह संगठन सर्वमान्य संगठन के रूप में उभर रहा है।

उन्होंने पत्रकारों के लिए सुरक्षा कानून सहित फिल्ड में काम करने वाले पत्रकारों के लिए आने वाली समस्याओं को उठाते हुए कहा कि जार निश्चित रूप से हर पत्रकार के सुख दुख में खड़ा है।

उन्होंने कहा कि वह आगामी 2 वर्ष तक ग्रामीण क्षेत्र के पत्रकारों की समस्याओं के समाधान के लिए प्राथमिकता से कार्य करेंगे।

उन्होंने इस बात पर भी प्रसन्नता जताई कि भीलवाड़ा जिला शाखा द्वारा प्रदेश में जो ऐतिहासिक कार्य किया जा रहा है वह भी अन्य जिलों के लिए प्रशंसनीय है।

इससे पूर्व नवग्रह आश्रम के संस्थापक हंसराज चौधरी ने पत्रकारों को नवग्रह आश्रम में उपलब्ध सुविधाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। चौधरी ने कैंसर मुक्त भारत निर्माण की परिकल्पना की चर्चा करते हुए कहा कि हम सब मिलकर कैंसर की बीमारी को खत्म कर सकते हैं।

इसके लिए हमको काला पानी जैसी अन्य समस्याओं को प्रमुखता से उठाकर उनका न केवल समाधान कराना होगा वरन कैंसर बीमारी को लेकर एलोपैथी चिकित्सा पद्धति में करवाई जा रही अनावश्यक जाचो को रोकने के लिए भी जागरूकता पैदा करनी होगी।

चौधरी ने कहा कि आश्रम में आज की तारीख में 411 किस्म के वानस्पतिक औषधीय पौधे हैं जो अपने आप में एक रिकॉर्ड होकर दुनिया में किसी भी एक परिसर में इतनी संख्या के पौधे नहीं हैं।

उन्होंने आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को सनातन काल से चली आ रही पद्धति बताते हुए आम लोगों से भी इससे जुड़ने का आह्वान किया।

नरेश पारीक ने अंत में सभी का आभार जताया तथा सम्मेलन में भाग लेने आए पत्रकारों को नवग्रह आश्रम में पौधों से परिचय कराते हुए एक एक पौधे की उपयोगिता उससे होने वाले उपचार के बारे में बताया गया।

कार्यक्रम का संचालन सुरेश चंद्र (शब्द) ने किया।