सुरेश चंद्र( शब्द )@bhilwara |भीलवाड़ा के शाहपुरा में फूलडोल महोत्सव में चल रही अव्यवस्थाओं के मद्देनजर अब पुलिस द्वारा मेले में घुमने आये लोगों के साथ बर्बरता पूर्ण कार्रवाई करने, युवक के साथ बुरी तरह से मारपीट कर उसे गंभीर रूप् से घायल करने व रात भर अकारण लाॅकअप में रखने का सनसनी खेज मामला सामने आया है।

युवक ने शाहपुरा थाने के दीवान जगदीश व कांस्टेबल उमेश मीणा सहित पांच जनों के खिलाफ रिपेार्ट थाने में देकर उनको निलबिंत करने की मांग की है।

युवक के समर्थन में राजपूत समाज के लोगों ने पुलिस अधिकारियों के साथ मिलकर मामले की जांच करने, दोषियों को निलबिंत करने की मांग की है, ऐसा न होने पर आंदोलन करने की धमकी दी है।

मूहलां निवासी हेमेंद्र सिंह पुत्र भंवरसिंह कानावत ने बताया कि 22 मार्च को रात्रि में 11.30 बजे वो अपने मित्रों के साथ फूलडोल मेले में घुम रहे थे। उसके साथ चंद्रशेखर सिंह सौदा भी थे। बस स्टेंड के पास बाइक को खड़ी करने के लिए वो रूका तो पुलिस चैकी के दीवान जगदीश ने अकारण उसके साथ गाली गलौच की।

बात अनसुनी कर वो अपने मित्र को छोड़कर वापस बस स्टेंड से गुजर रहा था तो दीवान जगदीश पुलिस गाडी में चार पांच अन्य जवानों के साथ आया और उसके पान खाने के दौरान उसको पकड़ कर सभी ने अभ्रदता करते हुए जातिगत गालियां दी।

उसके साथ मारपीट करते हुए उसे घसीट कर थाने ले जाया गया तथा वहां पर बर्बरता पूर्ण कार्रवाई करते हुए सभी ने लाठी, डंडे व पुलिस बेल्ट से उसकी फिर से पिटाई करते हुए उसे गंभीर रूप् से घायल कर दिया।

उसके शरीर पर गंभीर चोट आने के बाद भी उसे मेडिकल सुविधा नहीं दी गई। रात भर जबरन लाॅकअप में रखा गया तथा राजपूत समाज के लोगों के आकर थाने में अधिकारियों को वास्तविक स्थिति बताने पर उसे नहीं छोड़ा गया।

युवक ने आरोप लगाया कि उसके साथ बर्बरता पूर्ण मारपीट के बाद उसे धमकाया गया कि उसने कोई भी कार्रवाई करने की चेष्टा की तो उसको राजकार्य के मामले में फंसा दिया जायेगा।

इस मामले को लेकर राजपूत समाज के लोगों में गहरा आक्रोश व्याप्त हो गया तथा शनिवार को रात में पुलिस थाने के बाहर प्रदर्शन कर सीआई को मामले के संबंध में कार्रवाई करने को कहा गया।

युवक हेमेंद्र सिंह को सेटेलाइट चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है जहां उसका उपचार चल रहा है।राजपूत समाज के लोगों ने अपनी भावनाओं को पुलिस अधीक्षक के साथ पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल तक पहुंचाया है। समाज ने कहा कि दोनो पुलिस कार्मिकों को निलबिंत नहीं किया गया तो आंदोलन किया जायेगा।