jail prahari exam news

जयपुर | एसओजी की और से जारी जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा – Jail Prahari exam मामले की जांच में नया माेड़ आ गया है । इस परीक्षा के आयाेजन के तीन साल बाद अब असली अभ्यर्थियाें की जगह परीक्षा देने वाले आराेपियाें की पहचान कर ली गई है। एसओजी ने जांच के बाद 50 फर्जी अभ्यर्थियाें की सूची बनाकर उनके खिलाफ कार्रवाई के लिए जेल प्रशासन काे पत्र लिखा है।

जेल प्रशासन ने एसओजी की रिपाेर्ट के आधार पर शिवदासपुरा थाने में तीन फर्जी अभ्यर्थियाें के खिलाफ दाे केस दर्ज कराए हैं। खास बात यह है कि इन फर्जी अभ्यर्थियाें ने जिन असली अभ्यर्थियाें की जगह परीक्षा दी है और वे नियुक्ति पा चुके हैं ताे उनकी नाैकरी पर भी खतरा मंडरा गया है। ऐसे जेल प्रहरियाें काे सस्पेंड किया जा सकता है। परीक्षा 2015 में हुई थी।

जांच में सामने आया है कि परीक्षा के दाैरान अपेक्स काॅलेज में गणेशराम और वीआइटी काॅलेज में रामस्वरूप व संजय नाम के अभ्यर्थी की जगह किसी अन्य ने परीक्षा दी थी। एसओजी ने पिछले साल जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा के दाैरान कार्रवाई की थी।

उस मामले की जांच के दाैरान यह बात सामने आने के बाद एसओजी ने ऐसे अभ्यर्थियाें के दस्तावेजाें काे इकट्ठा किया और उनकी एफएसएल से जांच कराई ताे वे फर्जी पाए गए। अब जयपुर सेंट्रल जेल के प्रहरी मनाेज ने आराेपियाें के खिलाफ शिवदासपुरा थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।