Press Note

अजमेर,आगामी विधानसभा चुनाव 2018 के मद्देनजर निर्वाचन आयोग की आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के लिए सोमवार को छः जनों को नोटिस देकर जवाब मांगा गया है।

अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी श्री अशोक कुमार योगी ने बताया कि राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य श्री दीपक हासानी द्वारा आरती संग्रह की पुस्तके नवरात्रा, रामनवनी, दशहरा व दीपावली की शुभकामनाओं के साथ मतदाताओं को वितरित की गयी जो मतदाताओं को प्रलोभन देने की श्रेणी में आने के कारण नोटिस जारी किया गया है जबकि श्री मुन्नालाल शर्मा द्वारा बिना अनुमति निजी भवनों पर शिवसेना पार्टी के पोस्टर बैनर, झण्डे लगाने तथा पोस्टर बैनर पर प्रकाशक श्एवं मुद्रक का नाम पता एवं प्रकाशित सामग्री की सूचना अंकित नहीं करने के कारण तथा श्री हाजी सैयद अमाद चिश्ती को बिना अनुमति निजी भवनों पर बहुजन समाज पार्टी के पोस्टर बैनर, झण्डे लगाने तथा पोस्टर बैनर पर प्रकाशक एवं मुद्रक का नाम पता एवं प्रकाशित सामग्री की सूचना अंकित नहीं करने के कारण नोटिस जारी किये गये है।

मसूदा के रिटर्निग अधिकारी श्री पर्वत सिंह चुण्डावत ने बताया कि भाजपा अजमेर देहात के जिला मंत्री श्री कैलाश गुर्जर को बेनर एवं अन्य चुनाव सामग्री हटाये जाने के दौरान जप्त की गई व उतारी गई इन पोस्टरों में पोस्टर नगरपालिका क्षेत्र में बहुत से स्थानोंं पर लगा होना पाया गया जिसको हटाया गया। जिसमें कथित रूप से उनका व अन्य राजनेताओं के फोटो सहित पोस्टर पाये गये जिसमें राजस्थान गौरव यात्रा का वर्णन पाया गया । इस संबंध में कोई अनुमति प्राप्त नहीं किये जाने के कारण नोटिस जारी किया गया। कांग्रेस के युवा नेता श्री रामदयाल गुर्जर को बेनर एवं अन्य चुनााव सामग्री हटाये जाने के दौरान जप्त की गई व उतारी गई इन पोस्टरों में पोस्टर नगरपालिका क्षेत्र में बहुत से स्थानोंं पर लगा होना पाया गया जिसको हटाया गया। जिसमें कथित रूप से उनका व अन्य राजनेताओं के फोटो सहित पोस्टर पाये गये जिसमें श्री देवनारायण जयंति व श्री वीर तेजा दशमी एवं गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाई का वर्णन पाया गया जिसकी अनुमति प्राप्त नहीं की जाने से उन्हें नोटिस जारी किया गया। इसी प्रकार रामगढ़ भारतीय जनता पार्टी के मण्डल अध्यक्ष को ग्राम बाडी के माताजी मंदिर परिसर में भारतीय जनता पार्टी नवमतदाता अभिनन्दन समारोह का आयोजन करने के कारण नोटिस जारी किया गया है। यह कृत्य भारत निर्वाचन आयोग द्वारा राजनैतिक दलों और अभ्यर्थियों के मार्गदर्शन के लिए आदर्श आचरण संहिता के दिशा निर्देशों के विपरित है।