bjp news 2018

Barmer News /Jaipur News Toady Team

भाजपा आलाकमान ने बाड़मेर जिले में तेजी से बदलते घटनाक्रम और शिव विधानसभा क्षेत्र से विधायक कर्नल मानवेंद्र सिंह द्वारा शनिवार को आयोजित ‘स्वाभिमान रैली’ से पहले पार्टी के जिलाध्यक्ष जालम सिंह रावलोत को हटा दिया है।

जालम सिंह रावलोत के स्थान पर पार्टी ने दिलीप पालीवाल को बाड़मेर भाजपा का जिलाध्यक्ष घोषित कर दिया है।

गौरतलब है कि कर्नल मानवेंद्र सिंह शनिवार को पचपदरा में ‘स्वाभिमान रैली’ का आयोजन कर रहे है,जिसमें पूरे राजस्थान से  बड़ी संख्या में लोगो के आने की संभावना है।

कर्नल के शक्ति प्रदर्शन से मात्र चंद घण्टे पहले भाजपा आलाकमान ने बदलाव कर सबको चौंका दिया है।

जसवंत सिंह समर्थकों की नाराजगी और उग तेवर देखते हुवे लग रहा हैं कि भाजपा को मानवेंद्र सिंह को मनाने में काफी मशक्कत करनी होगी .  बाड़मेर-जैसलमेर भाजपा के कद्दावर नेता व पूर्व विदेशमंत्री जसवंत सिंह का गढ़ है. वे चार बार सांसद रह चुके हैं और उनके पुत्र मानवेंद्र सिंह भी एक बार इस संसदीय क्षेत्र से सांसद रह चुके है.

मानवेंद्र सिंह 2014 से बाड़मेर के शिव विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक है. किन्तु  2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने जसवंत सिंह की टिकट काटकर कर्नल सोनाराम को टिकट दे दी थी, जिसके बाद से ही जसवंत सिंह समर्थक खफा हैं.

शिव के पूर्व विधायक रहे जालमसिंह रावलोत और वर्तमान विधायक कर्नल मानवेंद्र सिंह के बीच भी आपसी संबंध अच्छे नहीं बताये जा रहे है।

स्वाभिमान रैली के दौरान कर्नल मानवेंद्र सिंह के कांग्रेस जॉइन करने या दूसरा कोई बड़ा फैसला लेने की अटकलें लगाई जा रही हैं।

कर्नल द्वारा बड़े स्तर पर जनसंपर्क कर अपने पक्ष में लोगो का समर्थन हासिल करने की मुहिम चलाई जा रही हैं।करणी सेना द्वारा भी स्वाभिमान रैली के लिए मानवेंद्र सिंह का समर्थन कर अधिक से अधिक राजपूत समाज को रैली में ले जाने की कोशिश की जा रही हैं .

दोनो के बीच तनातनी और कर्नल मानवेंद्र सिंह की नाराजगी और रैली से माहौल बिगड़ते देख पार्टी आलाकमान ने कर्नल मानवेंद्र सिंह के खास आदमी दिलीप पालीवाल को जिलाध्यक्ष बना कर गेंद कर्नल के पाले में फेंक दी हैं।

अब देखना ये है कि कर्नल मानवेंद्र सिंह अपनी दोस्ती निभाते है या ‘स्वाभिमान रैली’ से क्षेत्र की राजनीति में कोई बड़ा उलटफेर करेंगे।

दिलीप पालीवाल को नाराज कर्नल को मनाने और पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच आपसी मनमुटाव खत्म कर चुनाव से पहले स्थिरता लाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

पालीवाल के अनुसार वो कर्नल को मना लेंगे और उन्हें भाजपा छोड़कर कंही नही जाने देंगे।