पुलकित महाराज नरेन्द्र मोदी फर्जी गुरु
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ कथक सम्राट पुलकित महाराज

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कथक सम्राट पुलकित महाराज उर्फ पुलकित मिश्रा को पीएम नरेन्द्र मोदी का फर्जी आध्यात्मिक गुरु बनकर अलग अलग राज्यों में वीआईपी सुविधा प्राप्त करने के आरोप में गिरफ्तार किया है.

बताया जा रहा है कि पुलकित महाराज राष्ट्रपति से भी सम्मानित हो चुका है, वह बड़े-बड़े नेताओं और मंत्रियों के साथ अपनी फोटो दिखाकर धाक जमाता था, दिल्ली पुलिस ने पीएमओ से मिली शिकायत के बाद पुलकित महाराज के खिलाफ अगस्त में केस दर्ज किया था.

pulkit maharaj in marraige
पुलकित महाराज अपने शिष्य परिवार को आशीर्वाद देते हुवे

पुलिस आरोपी पुलकित महाराज से पूछताछ कर उसके द्वारा किए गए फर्जीवाड़ों की फेहरिस्त तैयार करने में लगी है.
गिरफ्तार आरोपी देश का जाना-माना कथक सम्राट पुलकित मिश्रा उर्फ पुलकित महाराज है.

पुलकित महाराज न सिर्फ देश में बल्कि विदेशों में भी कथक गुरु के नाम से जाना जाता है पूरे विश्व में पुलकित महाराज के करोड़ों फैन्स मौजूद हैं, कला प्रेमी इस कथक गुरु के डांस के कायल हैं.

pulkit maharaj with arun jetly
पुलकित महाराज वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ

पुलकित महाराज की कई वीवीआईपी के साथ हैं फ़ोटो है और खुद को राष्ट्रपति से सम्मानित बताकर कर वीआईपी प्रोटोकॉल की सेवाएं लेता था.कथक गुरु पुलकित महाराज पर आरोप है कि इसने अलग-अलग मंत्रालयों के फर्जी लेटर हेड की मदद से कई राज्यों में वीवीआइपी सुविधाएं हासिल की हैं.

एडिशनल सीपी क्राइम ब्रांच राजीव रंजन के अनुसार इसी साल अगस्त महीने में पुलकित महाराज के खिलाफ शिकायत मिली थी कि साहिबाबाद के रहने वाले पुलकित महाराज ने खुद को उत्तर प्रदेश के सीतापुर में कलेक्टर को कला एवमं संस्कृति मंत्रालय का डायरेक्टर बताया और वहां खुद के लिए सिक्युरिटी और सर्किट हाउस बुक करने के लिए कहा.

एक अप्रैल साल 2018 को पुलकित महाराज सीतापुर गए गया था जहां उसे पुलिस और प्रशासन ने वीवीआइपी प्रोटोकॉल और सिक्युरिटी भी मुहैया करवाई गई थी. लेकिन, कलेक्टर को शक हुआ तो उन्होंने इस बात की शिकायत तुरंत मंत्रालय को की, पीएमओ की तरफ से जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी गई.

pulkit maharaj vip protocol
पुलकित महाराज वीआइपी प्रोटोकोल में पुलिस के साथ

इन्वेस्टीगेशन में पता चला कि सीतापुर के कलेक्टर को भेजा गया मंत्रालय का लेटर हेड फर्जी है। धोखाधड़ी का केस रजिस्टर कर एक महीने की जांच के बाद शुक्रवार सुबह कथक गुरु पुलकित महाराज को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तारी के वक्त पुलकित महाराज अपने साहिबाबाद स्थित घर पर मौजूद था.

पुलिस को जांच के दौरान पता चला है कि इसकी बहन पारुल भी इसके साथ ही रहती थी और मंत्रालय के फर्जी लेटर हेड पर पारुल पुलकित महाराज की सचिव बनी हुई थी. इतना ही नहीं, पुलकित महाराज दिलशाद गार्डन इलाके में आलिंगन वेलफेयर सोसाइटी के नाम से डांस अकेडमी और अपना एक आध्यात्मिक केंद्र भी चलाता था.

फिलहाल, ये कथक गुरु पुलकित महाराज अब 5 दिनों के लिए क्राइम ब्रांच की रिमांड पर है, जहां पुलिस ये जानने की कोशिश करेगी कि आखिर कैसे ये अलग-अलग मंत्रालयों के फर्जी दस्तावेज तैयार करता था और क्या इसकी सांठ-गांठ मंत्रालयों के अधिकारियों से भी थी.