Non-luminous Wheat

जयपुर, 25 अप्रेल। प्रदेश में बेमौसम हुई बारिश एवं ओलावृष्टि से 50 प्रतिशत से अधिक खराब हुये चमकहीन गेहूं (Non-Shiny Wheat) की समर्थन मूल्य(MSP) पर खरीद के लिये गुरूवार को केन्द्र सरकार ने अनुमति प्रदान कर दी है। राज्य के खरीद केन्द्रों (Government Buying Center) पर शुक्रवार से 90 प्रतिशत तक चमकहीन गेहॅू की खरीद शुरू हो जाएगी। यह जानकारी खाद्य सचिव श्रीमती मुग्धा सिन्हा ने गुरूवार को दी।


श्रीमती सिन्हा  ने बताया कि प्रदेश में हाल ही में हुई प्राकृतिक आपदा के कारण राज्य सरकार के स्तर से केन्द्र सरकार को मापदण्डों में ढिलाई देने के लिये आग्रह किया गया था। उन्होंने बताया कि भारत सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीद के निर्धारित मापदण्डों के तहत चमकहीन गेहूं नहीं खरीदा जा सकता है।

उन्होंने बताया कि किसानों की समस्या को देखते हुए फसल पर गुणात्मक एवं मात्रात्मक क्षति से भारत सरकार को अवगत कराया गया था और उसमें निर्धारित गुणवत्ता मापदण्ड में गेहूं की चमक को हटाने या अधिकतम रियायत प्रदान करने की अनुमति देने का आग्रह किया गया था। जिसके क्रम में बुधवार को 50 प्रतिशत तक चमकहीन गेहॅू खरीद की अनुमति प्रदान कर दी थी, और 90 प्रतिशत तक चमकहीन गेहॅू की खरीद के लिये भी अनुमति के आदेश आज केन्द्र सरकार ने दे दिये है।


उन्होंने बताया कि बेमौसम बारिश से मुख्य रूप से हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर, कोटा, बारां एवं बूंदी जिलों में गेहूं की फसल प्रभावित हुई थी। कोटा संभाग में 15 मार्च से तथा प्रदेश के अन्य संभागों में 1 अप्रेल से किसानों से समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद की जा रही है।