jaipur latest news

अधिकारियों के स्थानांतरण को लेकर अब चुनाव आयोग की लेनी होगी अनुमति .मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने जारी किए आदेश, उनकी अनुमति के बगैर नहीं कर सकेंगे किसी का भी तबादला .छह से पूर्व कार्यमुक्त को मिले सकेगा पदस्थापन पद रिक्त नहीं तो पूर्व तबादला भी होगा निरस्त 

Jaipur News / राजस्थान के मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने शनिवार को सभी विभागों के मुख्य सचिव/प्रमुख शासन सचिव/शासन सचिव को आदेश जारी किए है कि आदर्श आचार संहिता से पहले कार्यमुक्त हुए कर्मचारी व अधिकारी ही केवल नवीन स्थानांतरित पदस्थापन के स्थान पर रिक्त पद होने पर ही कार्यग्रहण कर सकेंगे. पद रिक्त नहीं होने पर संबंधित अधिकारी व कर्मचारी का पूर्व पद पर स्थानातंरण निरस्त होगा.

मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने आदेशों में बताया है कि 6 अक्टूबर से राजस्थान में विधानसभा के चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही राज्य में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है. ऐसे में उन्होंने सभी विभागों से जारी स्थानातंरण/पदस्थापन आदेश चुनाव समाप्ति तक क्रियान्विति नहीं करने के निर्देश दिए है.

आचार संहिता से पूर्व लगभग सभी विभागों ने अधिकारियों/कर्मचारियों के स्थानांतरण आदेश किए गए है. उन आदेशों की पालना में अधिकारी नवीन पदस्थापन स्थान के लिए कार्यमुक्त हो चुके है. परंतु आदर्श आचार संहित प्रभाव में आ जाने के कारण वे नवीन पदस्थापन स्थान पर कार्यग्रहण नहीं कर पा रहे है. इस कारण संबंधित विभाग एवं अप्रत्यक्ष रूप से चुनाव संबंधित कार्य प्रभावित होने की पूरी संभावना है.

नए आदेश के मुख्य बिंदु :-

  • किसी भी विभाग के ऐसे अधिकारी/कर्मचारी जिनके स्थानातंरण आदेश 5 अक्टूबर से तक जारी हुए है और वे 6 अक्टूबर तक कार्यमुक्त हो चुके है और उनके नवीन पदस्थापन पर उक्त पद रिक्त है तो उन्हें उस पद पर कार्यग्रहण कराया जा सकता है.
  • 5 अक्टूबर से पूर्व में कार्यमुक्त हुए कार्मिकों के नवीन स्थानांतरित पदस्थापन स्थान पर पद रिक्त नहीं है तो अधिकारी/कर्मचारी का पूर्व पद पर स्थानातंरण निरस्त करना होगा.
  • यदि पूर्व पद किसी अन्य कार्मिक के कार्यग्रहण करने के कारण रिक्त नहीं है तो उसके पदस्थापन/स्थानातंरण के प्रस्ताव विभाग के माध्यम से निर्वाचन विभाग को भिजवाना होगा.