ignp canal photo

नाचना/जैसलमेर | दैनिक भास्कर जैसलमेर की एक खबर के अनुसार जैसलमेर जिले के भारेवाला गाँव के किसान 13 नवंबर 2018 यानि मंगलवार को सामूहिक रूप से आत्मदाह कर सकते हैं किसानो ने नाचना पुलिस वृत्ताधिकारी सरदार दान को इस आशय का ज्ञापन भी दिया हैं मगर नहर विभाग के अधिकारी चुनावी ड्यूटी का हवाला देते हुवे अनसुनी कर रहे हैं।

दैनिक भास्कर ने लिखा हैं कि नहरों में पर्याप्त पानी की मांग को लेकर पिछले 10 दिनों से धरने पर बैठे किसानों का धैर्य अब जवाब देने लग गया है। किसानों द्वारा सिंचाई के लिए अंतिम छोर तक पानी की मांग की जा रही है। लेकिन प्रशासन द्वारा किसानों की मांग पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जिस पर अब किसानो ने प्रशासन को 13 नवंबर तक का समय दिया है। आगामी 13 नवंबर तक अगर प्रशासनिक अधिकारी किसानों के साथ वार्ता नहीं करते है तो किसानों द्वारा जीरो आरडी पर सामूहिक रूप से आत्मदाह किया जाएगा।

इस संबंध में किसानों ने नाचना डिप्टी सरदार दान को ज्ञापन देकर आगामी 13 नवंबर को आत्मदाह की चेतावनी दी है। किसानों ने ज्ञापन में बताया कि पिछले 10 दिन में किसी नहरी अधिकारी ने किसानों की सुध नहीं ली है। जिससे किसानों में रोष व्याप्त हो गया है। किसानों द्वारा पिछले 10 दिन से जीराे आरडी पर धरना प्रदर्शन किया जा रहा है।

नहर की टेल तक नहीं पहुंच रहा है पानी 

ग्राम पंचायत भारेवाला क्षेत्र के मेराबखा माइनर, सुमेर माइनर एवं शेखो वाला मायनर के सैकड़ों किसानों द्वारा भारेवाला की जीरो आरडी पर धरना दिया जा रहा है। जल ग्रहण संगम कमेटी के अध्यक्ष गजानंद शर्मा व मेराबखा माइनर के जल संगम कमेटी के अध्यक्ष देवीलाल ने बताया कि इस समय में रबी फसल की बुवाई के लिए नहर विभाग द्वारा 3 बारी की वरीयता का पानी दिया जाना था व इन नहरों में पानी चल रहा है। लेकिन अंतिम छोर तक किसानों को पानी नहीं पहुंच रहा है। जिससे किसान अंतिम छोर का रबी की बुवाई से वंचित हो गए है।

इनका कहना हैं :-
निर्वाचन कार्य में ड्यूटी लग लगने से मौके पर नहीं पहुंच पाया परंतु सभी नहरो में पानी क्षमता के अनुरूप चल रहा है। –गोविंदसिंह, अधिशाषी अभियंता इंदिरा गांधी नहर परियोजना